Pages

About Me

My photo

I STRIVE TO MAKE THE WORLD A BETTER PLACE TO LIVE.

Monday, December 22, 2014

USURP YOUR OPPONENT'S HALF POWER

 The story of Vali, in Ramayan, intrigued and fascinated me. Vali, the mighty king of monkeys, had got a unique boon.; any person, who dared to fight with Vali, lost half his strength to Vali. I was in search of such formula from very childhood. There is a famous proverb" Where there is will, there is a way." So eventually I got the formula.The method is very straightforward and uncomplicated.

 Avoid fights as much as possible, however, if it becomes inevitable, fight for the right causes only.
Lord Shri Krishna tried his best to avoid the devastating war of Mahabharat. He begged Duryodhana to give only five villages to the Pandavas. But the Kauravas remained adamant, the war finally started but the great warriors and stalwarts like Bhishma Pitamah, Dronacharya, etc., took part in the war reluctantly and explained they were fighting against Pandavas because they were bound by Raj dharma. Thus Lord Shri Krishna destroyed the half force of Kauravas before the start of war.
Moreover, everyone has his conscience which tells him what is right or what is wrong. If you manage things shrewdly and convince the opponent that he is following a wrong path, he may admit his mistake and make a truce. The English finally acknowledged that the days of colonialism are gone, and they decided to free India. The Gandhi and other nationalist leaders won without shedding any blood.
But if your opponent is stubborn like Hitler, he and his army will fight half-heartedly and will finally lose the battle.
Since you will be fighting with your team for right causes,  the indomitable enthusiasm of your team will double your power.

Friday, December 19, 2014

अपने काम से काम रखिये।

कुछ  करने  की  इच्छा  रखने  वाले  व्यक्ति  के  लिए  इस  दुनिया  में  कुछ  भी  असंभव  नहीं  है  । 
अब्राहम  लिंकन । 
 जून 1989 में सबेरे 8 बजे मैं अपने मित्र श्री राम किशोर सिंह के  आवास पर एक आवश्यक कार्य-वश गया। उन्होंने सस्नेह मुझे बैठाकर चाय-नाश्ता कराया। मैं शिष्टाचारवश  उनका कुशल-क्षेम पूछने लगा। उन्होंने भी उत्सुकता से मेरे आने का कारण पूछा। मैंने बताया, "बस आपका हाल-चाल जानने आ गया हूँ।" इस पर  रामकिशोर बाबू  खुलकर हँसते हुए बोले, "उत्तम जी, आप अकारण अपनी गर्दन भी नहीं हिलाते हैं। " 
उनकी बात पर मैं भी अपनी हँसी रोक नहीं पाया। मैंने उन्हें अपने आने का सही उद्देश्य बताया। उन्होंने भी अविलम्ब मेरा काम कर दिया। 
मैं अपने अनेक  दोस्तों को व्यस्त पाता हूँ। वे कहते हैं, "मैं  काम में पूरी तरह से संलग्न हूँ। मैं पूछता हूँ, "क्या आप अपने काम में व्यस्त हैं या फिर दिल लगाने के लिए जो भी सामने है, उसे करते जा रहे हैं ?
 मेरा  प्रश्न सुनकर कई मित्र बगलें झाँकने लगते हैं। अंग्रेजी में एक कहावत भी है ," Busy for Nothing.".
कुछ  लोग तो " आये  थे  हरिभजन  को  ओटन  लागे  कपास " वाली  कहावत  चरितार्थ  कर  देते  हैं  अर्थात  जिस लक्ष्य  को  ध्यान  में  रखकर  कार्य  का शुभारम्भ करते  हैं, बाद  में  उसे  ही  मस्तिष्क से विस्मृत कर देते हैं। 
अनेक लोग कठोर परिश्र्म करके भी सफलता से कोसों दूर रह जाते हैं क्योंकि उनकी दृष्टि महान अर्जुन की तरह चिड़िया की आँख पर केंद्रित नहीं रहती हैं।
अतः अपने कार्यालय में कोई भी काम करने के पहले अपने आप से पूछें कि क्या यह काम आपके जॉब प्रोफाइल के अंतर्गत है और क्या इसे करने से आपके उच्चाधिकारियों की कानून सम्मत अपेच्छाएं पूरी होंगी ? यदि जवाब "हाँ" हो तभी वह काम करें। अपने जीवन में कोई काम करने से पहले सोचें कि क्या यह कार्य आपको अपने जीवन के लक्ष्यों की ओर ले जायेगा ? यदि उत्तर नकारात्मक हो तो कृपया ऐसे कार्य को दूर से ही अलविदा कह दें।

रेलगाड़ी की तरह पटरी पर लगातार अपने लक्ष्यों की ओर चलते रहें। रास्ते में घना कोहरा आ सकता है या फिर आँधी आ सकती है। परिणामस्वरूप आपको अपनी गति धीमी करनी पड़ सकती है , लेकिन अपने लक्ष्यों की ओर दृढ़ता के साथ बढ़ते रहें। अनुकूल परिस्थितियों में गति तेज कर दें, प्रतिकूल परिस्थितियों में गति धीमी कर दें, लेकिन  निशाना वीर अर्जुन की तरह  हमेशा अपने लक्ष्यों पर  रखें। एक दिन सफलता अवश्य ही आपके क़दमों को चूमेगी।  

Monday, December 15, 2014

DEVELOP ENOUGH COAXING SKILLS


We are neither Almighty nor super powers but, frail human beings. Others will not be standing on their toes to comply with our wishes. Neither will we be in a position to punish or purchase those who defy us. Avoidable fights, if not avoided tactfully, will consume all our energy and mental peace unnecessarily. Therefore we need to develop enough coaxing skills.
Even Lord Shri Krishna first coaxed Kauravas to give only five villages to  Pandavas and avoid the impending bloodshed. Yudhishthira had to announce the war after point blank refusal of Duryodhana to do so.
 When Arjun refused to kill his nears and dears in the war, Shri Krishna again used tremendous coaxing skills to persuade Arjun to fight the Dharmyudh against the evil. 
The great politicians and statesmen are skilled enough to coax their opponents to toe their lines.
It is high time that we hone our coaxing skills.

Wednesday, November 26, 2014

DEVELOP CONCENTRATION OF MIND IN A FUNNY WAY


Meditation is the focussing of the mind on some object. If the mind acquires concentration on one object, it can be so concentrated on any object whatsoever.          SWAMI VIVEKANAND.


When we talk of the concentration of mind, some of us get bogged down. However, we may develop the concentration in funny ways also.
Have you observed a group of people? Some of them spontaneously smile, some become gloomy. Their facial expression changes according to the thoughts coming into their mind. We may consciously modify the process.
My one colleague Mr. X always remained upset. This affected performance of my department also. Once I invited Mr. X to have a cup of tea with me. I asked him politely," Why are you always upset?"
He started telling me about all the unfortunate things that had happened in his life. I heard him patiently. When he got exhausted, I asked him to recall a recent event that made him happy. First, he could find none. But on my persistent, friendly goading, he related a happy event.
 Recently his brother-in-law presented a bicycle to his daughter. His daughter was euphoric along with his son. On seeing his both the offspring elated he also became happy. His wife prepared delicious dinner consisting of chicken curry, fried rice and other mouth watering dishes. His whole family enjoyed the yummy meal. 
Now I asked," How are you feeling?" He accepted with hesitation that he was feeling fine."
Try to recall any happy event of your life. Practice concentrating on that happy event only. You will enjoy the whole experience tremendously. Initially, it will be difficult to focus on even a happy event, but you may master the art with practice.

 While discussing a problem with friends, adopt the same technique. First, resolve one issue, and then present another problem. The productivity of your department will improve drastically with concentrated efforts.







Monday, November 24, 2014

क्या कुछ लोग जीवित भूत होते हैं ?


मैं बचपन में भूत से बहुत डरता था। अँधेरी रात में हर खजूर का छोटा पेड़ भूत ही लगता था।  अँधेरी रातों में मैं  ताली बजाते हुए और श्रीकृष्ण भगवान का नाम जपते हुए घर आता था।  हमारे बुजुर्ग बताते थे कि जो मनुष्य मन में  असीम इच्छाएं लिए मर जाता है, वह भूत बन जाता है। भूत बिना शरीर का आत्मा होता है। वह अपनी असीम इच्छाओं की पूर्ति के लिए  बेचैन होकर भटकता रहता है। 
दुर्भाग्यवश कुछ लोग जिन्दा भूत बन जाते हैं।  उनकी इच्छाएं अनियंत्रित होती हैं। उनका शरीर, उनकी वित्तीय स्थिति  या  नैतिक  मर्यादाएं  उनकी सारी इच्छाओं का बोझ उठाने में असमर्थ होती  है। लेकिन वे अपनी इच्छाओं को नियंत्रित नहीं करते हैं और येन -केन -प्रकारेण  अपनी उचित-अनुचित  इच्छाओं  की  पूर्ति  करने  का प्रयास करके घोर कष्ट उठाते हैं और अपनी सामाजिक प्रतिष्ठा भी  खो देते हैं 
मेरे एक मित्र मधुमेह से बुरी तरह पीड़ित हैं। कुछ महीनों पहले उन्होंने बताया कि उच्च  शक्ति  की अंग्रेजी  दवाएँ  खाने  के  बावजूद उनके खून में चीनी का स्तर कम ही नहीं हो रहा है। वे अत्यन्त परेशान थे और लम्बे अवकाश पर थे। कुछ  दिनों  पहले  एक भोज में मुझे उनके दर्शन हो गए । वे गुलाबजामुन और आइसक्रीम मजे ले-लेकर खा रहे थे। उनकी तरफ देखकर मैं मुस्कराया  तो वे झेंप गये, लेकिन मिठाइयों का आनंद उठाते रहे। 

58 वर्ष की उम्र के मेरे एक अन्य परिचित के अनेक अनैतिक सम्बन्ध  हो गये । अतः उन्हें अपने पापों के पोषण के लिए ज्यादा रुपयों की जरुरत थी। परिणामस्वरूप उन्होंने बैंक के खातों में धोखाधड़ी कर दिया और जब उनकी धोखाधड़ी पकड़ी गयी तो जेल जाने के डर से उन्होंने  जहर  खा लिया। अफ़सोस,पहले वे जीवित भूत बने, फिर सचमुच  भूत बन गए। 

हमारे धर्मग्रंथों में हमारे पूर्वजों ने इच्छाएं नियंत्रित करने की शिक्षा दी है। अब यह हमारे ऊपर है या तो हम अवांछित और असीम इच्छाओं का गुलाम बनकर जीवित भूत की तरह घोर कष्ट उठाते हुए जलालत  भरी  जिन्दगी जियें या फिर अवांछित इच्छाओं को नियंत्रित करके सुखमय जीवन बिताएँ।  
प्रसिद्ध  प्रेरक -साहित्य  लेखक एंथोनी रोब्बिन्स ने अपनी एक पुस्तक में सटीक बात कही है," यदि आप ज्यादा खाना चाहते हैं और लम्बी उम्र तक जीना चाहते हैं तो थोड़ा-थोड़ा खाएं , इस तरह आप लम्बी उम्र तक स्वस्थ जिएंगे और कुल मिलाकर ज्यादा भी खाएंगे। "

Saturday, November 15, 2014

WHERE IS OUR REMOTE CONTROL?

What lies behind us and what lies before us are tiny matters compared to what lies within us.
- Ralph Waldo Emerson.
Nobody can hurt me without my permission.
- MAHATMA GANDHI.

Do you know," We give access to the remote control of our mind to any Tom Dick and Harry." Any ordinary person has the power to make us happy or depressed. Just imagine any small fry tells bad things about us; we become frustrated, sad and upset. Any insignificant person comes and showers praises on us we become euphoric and start flying high in the skies.

 Is it proper to allow any person to use the remote control of our mind? Our senior friend and retired Chief Manager commented on Facebook that it is but natural. Our good friend Satyajit Barooah exclaimed," Our mind is a precious asset, we should not allow others even to pry at it. To win over weaknesses in us is the sole purpose of our life."

  Kindly enrich my knowledge with your comments and experience. I shall include the best ones in this article.

Monday, November 3, 2014

BEWARE SWINDLERS ARE ROAMING EVERYWHERE.

Use all your six senses to cope with challenges thrown by swindlers.

My grandma used to tell stories about thugs and crooks. Those villains used to have big mustaches and terrible faces. But, in real life, they look like normal human beings. They look friendly but will deceive you, as soon as you go off guard. There are many rackets where they swindle people as part of organized profession.
Medicine companies are one of the best examples. Same drugs are sold by the companies on huge price differences ranging from 100% to 300% or more. I wonder how the government allows this. The height of irony is that the affordable medicines marketed by the reputed companies are not available at all places.
Online swindlers ask debit card numbers and passwords by impersonating themselves as bank staff and siphon off all the money by making online purchases. They give their address to the online marketing companies for shipment of goods even then our efficient Police is unable to catch them, and the racket is going on unabated. 
One can be duped at innocuous places also. Recently I went to get petrol from a well-known petrol pump and asked for 5 litres. The innocent looking petrol pump operator suggested me politely to get the tank filled completely. As soon as the tank became full, he reset the meter within a nanosecond. He claimed 595 bucks. I protested that I did not see the meter. But I didn't want to make a scene for some small amount he might have swindled. Moreover, there was a long queue behind me, so I paid silently. When I related the story to my colleagues, they told that the petrol pump operators dupe as soon as somebody goes off guard.
Therefore train your five senses of smelling, hearing, looking, touching and tasting to cope with the challenge. The sixth sense or the intuition of the attentive persons  also strengthens automatically.

Thursday, October 30, 2014

अपने साथियों को अंतर्यामी न समझें ।

 हमारे साथी भी हमारी तरह इंसान ही हैं, कोई सिद्ध योगी नहीं हैं, लेकिन बदहवासी में एक बार अपने परिवार के सदस्यों को मैनें  अंतर्यामी  समझने की भूल कर दी थी, लेकिन ईश्वर की असीम अनुकम्पा से मुझे अविलम्ब सद्बुद्धि आई और हड्डियाँ तुड़वाकर सपरिवार अस्पताल में भर्ती होने से बच गया।   
  • वर्ष २००९ के जून  माह में पटना राजधानी एक्सप्रेस  से मैं सपरिवार दिल्ली से भाया  पटना मुजफ्फरपुर आ रहा था। दुर्भाग्यवश राजधानी एक्सप्रेस चार घंटे पच्चीस मिनट देरी से पटना पहुँची । रास्ते में ही मेरे एक साथी ने बताया था  कि शार्ट-सर्किट से हमारे क्षेत्रीय कार्यालय मुजफ्फरपुर में भीषण आग लग गयी है और मुझे जल्दी मुजफ्फरपुर पहुँचने की सलाह दी थी। पटना रेलवे स्टेशन पर राजधानी करीब 11 बजे दिन में पहुँची। वहां पता चला कि मुजफ्फरपुर जाने वाले रास्ते में कहीं दुर्घटना हो गयी है और मार्ग अवरुद्ध है, अतः हमलोगों ने हाजीपुर होते हुए रेल-मार्ग से मुजफ्फरपुर जाने का निश्चय किया।  उस दिन प्रचंण्ड धूप थी।  ऑटो-चालक ने किसी कारणवश ऑटो हाजीपुर रेलवे स्टेशन के पीछे लगाया। वह काफी जल्दी में था, अतः उसने मेरी पत्नी के उतरने के पहले ही ऑटो चला दिया, जिससे मेरी पत्नी को हलकी चोट भी लग गयी,  जिससे हमलोग और बदहवाश हो गये।
  •  स्टेशन की तरफ जाने पर हमने पाया कि रास्ते  को लगभग दस फीट खोद दिया गया था और उसके  ऊपर टिन का एक अस्थाई कमजोर पुल बनाया गया था, अतः मैंने निर्णय लिया कि पहले मैं पुल पार कर लूंगा, फिर बारी-बारी से बच्चों और पत्नी को बुला लूंगा। लेकिन मैंने यह मान लिया कि मेरे परिवार के लोग स्वतः ही  मेरे मन की बात समझ गए होंगे और पुल की स्थिति देखते हुए एक-एक करके आयेंगे। आधा पुल पार कर लेने के बाद मुझे सद्बुद्धि आयी और मैनें पीछे मुड़कर देखा।  मेरे परिवार के  बाकी लोग भी उस कामचलाऊ पुल पर चढ़ने ही वाले थे। मेरा बड़ा बेटा तो दो-चार कदम बढ़ा भी चूका था। मैनें तुरत उसे वापस भेजा अन्यथा कमजोर पुल चार ब्यक्तियों का भार निश्चय ही नहीं उठा पाता और टूटकर गिर जाता जो हमारे हाथ-पैर तोड़कर अस्पताल पहुँचाने के लिए पर्याप्त होता।  
  • मेरे गणित के प्रोफेसर मोहम्मद शीष साहब कहा करते थे कि परीक्षा में प्रश्न हल करते समय एक-एक स्टेप ऐसे बढ़ाएं और हर स्टेप को इस तरह स्पष्ट करें मानो परीक्षक एकदम मूर्ख हो।  मैनें उनकी सलाह मानी और गणित में विशिष्टता के साथ स्नातक उत्तीर्ण किया। 
  • व्यवहारिक जीवन में भी प्रोफेसर साहब की सलाह सटीक प्रतीत होती है। आप यह मान लें कि आपके साथी एकदम अनजान हैं और जो भी आप सोच रहे हैं उन्हें स्पष्ट बता दें। संवादहीनता की समस्या जड़ से समाप्त हो जाएगी। 

Sunday, October 26, 2014

DON'T TAKE DECISIONS IN NEGATIVE EMOTIONS

 Beware, negative emotions are more dangerous than the opium.

 Transactional Analysis theory states,"Our mind consists of 3 ego states. The CHILD, PARENT, nd ADULT.

(1) The CHILD- Some childlike and childish qualities become part and parcel of our personalities.

(2) The PARENT- Our parent figures continuously give instructions. We promptly comply with most of them. This is why many irrelevant traditions are carried  from genaration to generation.

(3) The ADULT- As we grow up, we start thinking rationally discard most of childish qualities. We also question many parents’ instructions. For example Sati System was being carried from generation to generation. People even did not question it’s propriety and mercilessly burnt the widows alive as they learnt it from their ancestors.
 Thus they were under the influence of PARENT ego state. Raja Ram Mohan Rai, in his ADULT ego state, questioned its propriety and fought to make the Sati System illegal.

Our ADULT ego state gets decommissioned when we are in any emotion i.e. either in love, hate, anger, depression, fear, greed, over enthusiasm etc. We may harm ourselves and others in negative emotions. So the best course of action will be to avoid any action in  emotions.We must wait for emotions to calm down. In the mean time we may talk with our close friends to take their advice, enjoy music, movies etc. Taking long and deep breaths also calms down emotions. 

Fraudsters raise emotions of  confidence, greed or fear before duping us. Hitler gave emotional speeches to make people mad of hatred.
A smoke detector warns us as soon as it detects smoke. Similarly we must continuously monitor the thoughts in our mind and take preventive measures when negative emotions trap us.
 Too much positive emotions such as over confidence, over enthusiasm, craziness in love etc are worse than negative emotions.   

Friday, October 24, 2014

UNDERREACT, IT IS GOOD FOR OUR HEALTH.

If we control our reactions in the short-term, we don't have to live with the 'reaction regret' in the long term.
--- Lysa Terkeurst.
I along with my family members visited Nainital in 2009. The boat ride in Nainital Lake was magnificent. Next day we left by car for Kaushani and Ranikhet. The whole journey was abundant with breath taking scenery. After enjoying every second there for three days, we reached Kathgodam Railway Station for going to Goa.
 Unfortunately, I lost my temper with the kids on a trivial matter. That incident hurt my better half.Consequently, we couldn't relish our first day in Goa.
I honestly confess that the tendency to overreact overpowers me sometimes even now. Therefore during vulnerable periods, I repeat the slogan "Underreact." "Underreact." continuously and forcefully while taking many long and deep breaths. This activity checks the overreaction in its womb and keeps my mental as well as physical health in good condition.

Although old habits are die hard, yet I appear to have mastered the art of underreaction. During my posting at Motihari, my colleague Anil Jee once remarked," Send an angry man to Manager Sahab (me), the aggrieved speaks nonstop, and Manager Sahab will be looking at his face and listening silently. The poor fellow will calm down in no time."
 I don’t only hear complaints of annoyed persons patiently while looking intently at their face but also invite them to sit down and get their legitimate work done at the earliest. The displeased leave my chamber with smiling faces and also become my well-wishers. 

Friday, October 17, 2014

DON'T ALLOW DILUTION OF YOUR CONTROL.

Initially, East India Company obtained permission from the Emperor Jahangir to trade in India. Slowly they built godowns and hired shooters to protect their godowns during the period of other emperors. Finally, they made fort-like godowns and recruited a large army to capture the whole India in a systematic and planned way.

Charles Seymour, MP, in the Jeffrey Archers novel " First Among Equal" appointed his right-hand man Mr. Clive Reynolds to look after his family bank in which the family had 4% shares but controlling power. Mr. Reynolds slowly made insignificant looking changes in the management of the bank and appointed his men in a systematic way. In due course, Mr. Reynolds became so much powerful that he double crossed Charles Seymour.
A popular idiom exhorts," Never allow any person to catch your fingers lest he would catch your wrist."
 Therefore silently and carefully keep an eye on even minor developments taking place in your circle of influence. Tactfully thwart all the major or minor attempts that may cause dilution of your control else one day you may find to your utter dismay that you have been thrown out of the steering wheel.

Once I read a famous idiom," Offence is the best defense." 
Therefore, try continuously to increase more and more control in your circle of influence and also expand it by leaps and bounds. Your friends and colleagues will help you best by the win-win theory. Please also read people management section of our lovely blog to get insights into getting along with people by the win-win method.

This theory is also applicable to self-management. 
Suppose you get up at 5.30 a.m. one day, the CHILD in you may suggest that there is no harm in sleeping one hour more today. If you oblige yourself, you may find that slowly you have become late riser. Therefore if you get up at 5.30 a.m. please try to set new target 5.25 or 5.20 a.m. and so on.

Wednesday, October 8, 2014

TELL BLACK MAILERS," AN UNEQUIVOCAL NO."

There is a short, interesting story about blackmail in Jeffrey Archer's novel," FIRST AMONG EQUALS."
A stunningly beautiful call girl Mandy sent a blackmailing note to Mr. Raymond Gould, the MP & undersecretary, asking 500 pounds. Mr. Gould hired solicitor Sir Roger Pelham and paid him 500 pounds to get rid of the blackmailer.
The attorney's logic was simple. If you pay the blackmailer beast, more ransom may be demanded sooner or later. Hence it is better to face the facts boldly and tell the blackmailer," A firm and unequivocal No."
Many times my friends approach me when they are fearful of certain impending blackmail. I calmly ask," What is the worst thing that can happen to us?"  I allow the question to be absorbed for some time. If no reply comes, I repeat the question again and then explain," The worst thing that can happen is that the cruel death will hit us and that is certain anyway then why are we so fearful? They get great relief often.
Blackmailers are nasty human beings. You can trust the deadly cobra but not the blackmailers.  I hear stories how did the king cobra spare a small child. During British rule, Shri Nehru lived in a jail which had many snakes but they never harmed him.
 One thing is certain about the deadly cobra that it will not harm you unless and until you put your foot absentmindedly on its body. But the devil's offspring,  the blackmailer will not allow you to heave a sigh of relief until you can fulfill his lust. Therefore, face the facts boldly, report police, take legal help or do any legal thing to get rid of him.

Friday, October 3, 2014

सस्ते में ईलाज कैसे करायें ?

दुर्भाग्यवश अनेक चिकित्सकों ने चिकित्सा को ज्यादा से ज्यादा लाभ कमाने का  साधन बना लिया है। वे अपना दवाखाना रखते हैं और ऐसी दवाइयाँ लिखते हैं जो सिर्फ उनके दवाखाने  में ही 
उपलब्ध होती  है। मैंने इन दवाइयों में मौजूद केमिकल वाले अन्य दवाइयों से  इनकी तुलना की  तो पाया कि लगभग/  हूबहू कॉम्बिनेशन वाली दवाइयाँ बाजार में काफी सस्ती मिलती हैं। अतः आप यदि बिना दवाखाना रखने वाले चिकित्सक से दिखाएंगे तो दवाइयों के मूल्य में आपको भारी बचत हो सकती है।
अनेक चिकित्सक बहुत ज्यादा जाँच लिखते हैं। उनके सहायक आपको किसी खास जाँच-घर में ही जाँच कराने की सलाह देते हैं।  ऐसे चिकित्सकों से भी यथा-संभव दूर रहें।
चिकित्सा-जगत में स्वर्गीय डॉक्टर शिवनारायण सिंह और डॉक्टर एस.एन जायसवाल  जैसे आदर्शवादी और योग्य चिकित्सक बहुत हैं। आप  ऐसे चिकित्सकों से इलाज कराकर खर्च  में भारी बचत कर सकते हैं। मेरे दोस्त-समबन्धी जब बीमार पडते हैं तो मैं उनका समाचार पूछने जाता हूँ। बातों ही बातों में उनसे इलाज करने वाले चिकित्सक का नाम और इलाज के दौरान उनके अनुभव के बारे में पूछता हूँ। इस तरह मेरे पास अपने शहर के सुयोग्य और कम जांंच एवं दवा लिखने वाले चिकित्सकों की सूची बन गयी है।
कुछ बीमारियों का इलाज सचमुच काफी खर्चीला होता है। ऐसी बिमारियों के चपेट में आने पर आपकी आर्थिक स्थिति चरमरा सकती है। अतः आप एक फ्लोटिंग मेडिक्लेम पालिसी ले सकते हैं जो एक विशेष राशि तक आपके परिवार के किसी भी सदस्य का चिकित्सा खर्च वहन कर सकता है। विस्तृत जानकारी आपको सम्बंधित इन्सुरेंस कंपनी के कागजात से  मिल सकती है। पंजाब नेशनल बैंक भी ओरिएण्टल इन्सुरेंस कंपनी के साथ टाई-अप करके  बहुत आकर्षक मेडिकलेम पालिसी बेचता है जिसमें आपके परिवार के चार सदस्यों को फ्लोटिंग मेडिक्लेम इन्सुरेंस दिया जाता है।
मैनें गूगल सर्च करने पर पाया कि मैनकाइंड फार्मा लिपिड प्रोफाइल कम करने की दवा LIPIKIND-F  4 रूपये 20 पैसे टेबलेट बेचती है, यही दवा कुछ कंपनी 15 रूपये टेबलेट बेचती है। इसी तरह इप्का की  LOSANORM २५, 2 रूपये प्रति टेबलेट से भी कम पर मिलती है जबकि इसी कैमिकल से बनी दवा के लिए कई कंपनियां 5 रूपये टेबलेट से भी ज्यादा एमआरपी रखी हैं।
अतः आप जागरूक रहकर अपने बटुए पर कम दबाब  देकर भी अपना इलाज करा सकते हैं। 

Sunday, September 28, 2014

THE MORE SPECIFIC, THE MORE EXCELLENT

The more specific and measurable your goal, the more quickly you will be able to identify, locate, create, and implement the use of the necessary resources for its achievement.

Charles J. Givens


One fine day, I received a phone call from a courier boy. The poor chap asked furiously," Sir, where is your house in banker's colony." I boasted calmly," I have been living there for 15 years. Ask my name from anybody." He became much flustered, "None is outside. To whom shall I ask? Please tell me your house number." I realized my mistake and said meekly, L-4.

Recently I called on my friend Manish Jee in Kolkata. He told me," He lives in Shipping Corporation housing society." I presumed this society must be big and famous. So I didn't bother to ask Plot number etc. and boarded one taxi, assuming that the cab driver must be knowing it.
 We were searching Shipping Corporation housing society, near Park Circus, from the windows of the cab. The cab driver, too, was not able to locate it. Finally, I telephoned Manish Jee who came on the road to receive us; we discovered to our dismay that the cab was just 50 feet away from the Shipping Corporation housing society.
 Once I was reading a book on creative writing, the accomplished author exhorted to write explicitly e.g.Write," Uttam was eating bread and butter."  instead of writing " He was eating."  Being specific is an art. The more one practices, the more proficient he becomes. Be as much specific as possible. The more specific, the more excellent e.g. one may write," Uttam was eating brown bread with Amul butter at 8 A.M. in my house" and so on.



Sunday, September 21, 2014

बीमारियों में जड़ी-बूटियों का उपयोग, कितना उचित ?


मुझे मधुमेह हुआ तो मेरे अनेक शुभचिंतकों ने अनेक प्रकार की जड़ी-बूटियों के बारे अवांछित सलाह दी। मेरे एक मित्र ने पूरे विश्वास के साथ भरोसा दिलाया कि बेल-पत्र की कोंपल मधुमेह पर जादू जैसा असर डालती है। चूँकि मूझे पता था कि बेल-पत्र की कोंपल का कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है, अतः मैंने इसे आजमाया, मुझे तो मधुमेह में इससे कोई लाभ नहीं हुआ।

उपरोक्त विषय पर मेरे एक सम्बन्धी जो एम.बी.बी.एस., एम.डी. चिकित्सक हैं. उनका कहना है कि मधुमेह जैसी गंभीर बीमारियों में जड़ी-बूटियों के उपयोग से बचना चाहिए क्योंकि उनके गुण-दोषों को परखने के लिए कोई रिसर्च नहीं किया गया है . कुछ जड़ी-बूटियों के दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं, जैसे कुछ लोग मानते हैं कि करैले का रस ज्यादा पीने से किडनियां फेल हो सकती हैं. यद्यपि इस पर शायद कोई रिसर्च नहीं हुआ होगा।

 एक बार मेरे एक मित्र ने मुझे बताया कि एक जड़ी-बूटी बेचने वाला घुटने के दर्द की राम-बाण दवा बेच रहा है। उस दुकान पर जाकर मैंने भी दवा खरीद ली।  दुकानदार दवा की तारीफ में एक से बढ़कर एक कशीदे काढ़ रहा था, लेकिन उसने दवा में प्रयुक्त जड़ी-बूटियों का नाम नहीं बताया और कहा कि यह ट्रेड-सेक्रेट है।  कुछ दिन दवा  खाने के बाद मेरा दर्द तो ठीक गया, लेकिन मैं अजीब नशे जैसी हालत में रहने लगा।  मेरे एक मित्र को जब यह पता चला तो उसने बताया कि वही दवा खाने के बाद उसके पिताजी के दोनों पैर चेहरा सहित सूज गए थे। चिकित्सक के सलाह पर दवा बन्द करते ही उनकी सूजन ठीक हो गयी।
मेरे अनुजतुल्य चन्द्रशेखर ने इस विषय पर अपना निम्नलिखित अनुभव बताया।
मै पत्नी के पैर दर्द की दवा मोतिहारी के एक नामी आयुर्वेदिक चिकित्सक से लेता था और दर्द शीघ्र  ठीक हो जाता था। अतः पत्नी भी खुश हो जाती थी और मै भी निश्चिन्त हो जाता था। एक दिन पत्नी ने बताया कि दवा लेने के बाद पैर दर्द तो चला जाता है पर पेट में दर्द होने लगता है। यह सुनकर मेरा माथा ठनका। मै इसके पीछे पड़ा तो पता चला कि इसमें पेन किलर के टेबलेट को पीसकर मिलाया जाता था। मै ढगा महसूश करने लगा। 
कभी भी आयुर्वेदिक दवा लोकल बनाया हुआ नहीं लेनी चाहिए। हमेशा ब्रांडेड कम्पनियों जैसे डाबर ,झंडू या पतंजलि का ही लेना चाहिए।
अतः फुटपाथ आदि पर जड़ी-बूटियां बेच रहे नीम-हकीमों के सब्ज-बाग मेँ आकर अपने स्वास्थ्य से खिलवाड़ न करें। यदि आयुर्वदिक दवा खाना चाहें तो मशहूर कंपनियों की दवायें शिक्षित आयुर्वेदिक चिकित्सक की देख-रेख में खाएं। मैनें दादी-नानी  के नुस्खों को भी एक सीमा तक लाभप्रद पाया है, इन्हें लेते समय कम से कम आपको इतना पता तो रहता ही है कि आप क्या ले रहे हैं ?


Thursday, September 18, 2014

I PUNISH MYSELF LIGHTLY.

  • Punishment is not for revenge, but to lessen crime and reform the criminal - Elizabeth Fry.


    Reward & Punishment are two tools by which the world is controlled. Even, the creator of the world and the epitome of kindness, the Almighty God made the hell and the heaven.
    I control many persons in the capacity of the Branch Manager. The provisions of Bipartite settlements and officers' service regulations define the undesirable acts and likely punishment.  Those, who do their duties honestly and intelligently, are given promotion, appreciation, and recognition. So controlling staff members is cut and dried.
    But controlling my own mind is the Herculean task. I often repeat the same mistakes time and again. My repetitive mistakes make the situation utterly awkward and make me nervous, too.
    So I lightly pinch muscles of my left arm and emphatically repeat at least five times, what is to be done or not to be done. It also facilitates concentration during those seconds. It works well for me and drives my absent-mindedness away.
    Note: - When I am too much annoyed with myself, it becomes a sign of frustration. Then. I take deep breaths, drink water and take enough rest.

Tuesday, September 9, 2014

इंसान या सामान ?


मेरे गांव के लोग बहुत अच्छे थे और दुःख-सुःख में घुल-मिल कर रहते थे। हमलोग बड़े विनोदी स्वभाव के थे और लोगों को अजीब नामों से पुकारते थे, जिनको सुनकर आप हँसते-हँसते लोट-पोट हो जायेंगे। एक ब्यक्ति ज्यादा बोलते थे, अतः उन्हें रेडियो लाल कहा जाता था। मैं किसी चीज की छोटी-छोटी बारीकियों पर गौर करता था, अतः मुझे कानूनी डायरी कहा जाता था। यह सब इतने प्यार से कहा जाता था कि हम सब इसका मजा लेते थे। 

मैंने लोगों को इंसानों के बारे में अनेक उद्गार व्यक्त करते सुना है। जैसे- आप क्या चीज हो! वह एकदम गाय है। एक सांपनाथ है तो दूसरा नागनाथ। वह एकदम बोतल है। वह जलेबी की तरह टेढा है। आदि 
प्रतीत होता  है कि हमलोग  इंसानों को सामान के रूप में देखने के आदी हो गए हैं। 
The Arbinger Institute ने एक बहुत अच्छी पुस्तक,"लीडरशिप क्या आप खुद को धोखा दे रहें है" लिखी है। इस पुस्तक में उपरोक्त समस्या पर विस्तृत चर्चा की गयी है। 
पुस्तक पढ़ने के बाद मैनें महसूस किया कि जाने-अनजाने मैं भी लोगों को वस्तुओं के रूप में देखता था। अतः मैनें अपना नजरिया बदलने का प्रयास किया। अब मैं यह सोचता हूँ कि मेरे चारों तरफ मेरे जैसे ही इंसान हैं। उनकी आवश्यकताएं और भावनाएं मेरी ही जैसी हैं। मेरी ही तरह उनमें भी अच्छाइयां और कमियाँ हैं। सोच में इस बदलाव से लोगों के प्रति मेरी भावनाएँ और व्यवहार में सकारात्मक बदलाव आ गए। जिसके काफी अच्छे परिणाम आये हैं। मुझे अब अपने सहयोगियों से ज्यादा सहयोग मिलने लगा है और मेरे तनाव के स्तर में भी कमी आई है क्योंकि मैंने लोगों की बुराइयों पर कुढ़ना बेहद कम कर दिया है। क़्या आप भी लोगों के प्रति अपने नजरिये की जाँच करना चाहेंगे ?


Monday, September 8, 2014

दूसरा विध्वंशकारी वाक्यांश " मैंने सोचा। "

 "मैंने सोचा" भी समय बर्बाद करने वाला, उपयोगहीन और विध्वंशकारी वाक्यांश है। हममें से अनेक न तो  कोई जांच करते हैं ना ही  अपनी नजरें चारों ओर दौड़ाते  हैं और बिना किसी ठोस आधार के कुछ भी सोचकर आगे बढ़ जाते हैं, और जब ठोकर लगती है तो अफ़सोस के साथ कहते हैं, "ओह ! मैंने क्या सोचा था, और क्या हो गया ? "
मैंने अपनी बाइक की चोरी के बारे में एक लेख," OVERCONFIDENCE KILLS " लिखा है।
  मैं अपनी बाइक हर जगह अच्छे तरीके से लॉक करके साईरन प्रणाली को ऑन कर देता था, लेकिन मैं अपने बैंक परिसर में साईरन प्रणाली ऑन नहीं करता था क्योंकि मैं सोचता था कि मैं शाखा प्रबंधक हूँ, मुझे और मेरे बाइक को इलाके के सारे लोग पहचानते हैं। अतः कोई भी चोर मेरे शाखा परिसर से मेरा बाइक चुराने का साहस नहीं करेगा, लेकिन अफ़सोस एक काले शनिवार क़ो जब मैं शाखा कार्यालय से बाहर निकला तो मेरे बाइक का कहीं अता-पता नहीं था। कोई शातिर  चोर उसे लेकर रफूचक्कर हो गया था। मुझे जोरदार सदमा लगा, जब एटीएम गार्ड मेरे बाइक का रंग भी ठीक से नहीं बता पाया। मेरी यह सोच कि पूरे इलाके के लोग मेरी बाइक को पहचानते हैं, पूरी तरह आधारहीन और काल्पनिक निकली। लेकिन शायद साईरन प्रणाली ऑन करने की परेशानी से बचने के लिए मैंने यह सोच लिया था की इलाके के सारे लोग मेरी बाइक पहचानते हैं।
एक शुभ मंगलवार को मेरी मेम साहब ने ऑफिस जाते समय मुझे टिफिन बॉक्स नहीं दिया बताया," आज आपके ऑफिस में पार्टी है, अतः टिफिन नहीं बनाया है। मैंने मुस्कराकर  कहा," मैंने पार्टी के बारे में बताया नहीं, आपने पूछा नहीं तो फिर आपने पार्टी की बात कैसे सोच ली ? मेम साहब रक्षात्मक अंदाज में बोलीं ,"आज आपके बैंक में विशेष दिन है न, इसलिये मैंने सोच लिया।" उस दिन सचमुच विशेष दिन था, लेकिन सामिष स्टाफ सदस्यों ने पार्टी अगले दिन शिफ्ट कर दी थी।  अतः मैंने मेम साहब को टिफिन बनाने से मना नहीं किया था, मेरी धर्मपत्नी ने भी इस बारे में कुछ नहीं पूछा और पार्टी की बात सोचकर लंच नहीं बनाया। शायद वो किसी और काम में व्यस्त होंगी और उस दिन लंच बनाना नहीं चाहती होंगी। अतः उनके अवचेतन मन ने  "मैंने सोचा " वाक्यांश का सहारा लिया होगा।  खैर मैंने भी मौके का फायदा उठाया और वंशी स्वीट्स में गरमा-गरम और लजीज पाव-भाजी का मजा लिया। यद्यपि मनोवैज्ञानिक मुझ पर भी आरोप लगा सकते हैं कि मेरा अवचेतन मन पाव-भाजी का मजा लेना चाहता था, इसलिए पार्टी के अगले दिन होने की बात मैंने अपनी मैडम को नहीं बताई। 
एक बार हमलोगों ने ऋण नहीं चुकाने वाले ऋणियों को नोटिस भेजा। एक सीधे-सादे ऋणी ने आकर कहा,"साहब, मैंने सोचा कि मेरा ऋण माफ़ हो गया है, इसलिए मैंने ऋण नहीं चुकाया। मैंने पूछा," आपको जब बैंक ने ऋण चुकता प्रमाण-पत्र नहीं दिया तो आपने ऐसा कैसे सोच लिया? " शायद वह ऋणी अपने सीमित आय से ऋण का मासिक किश्त चुकाना नहीं चाहता था, अतः उसने भी 'मैंने सोचा' वाक्यांश का सहारा लिया। परिणामस्वरूप ऋण की राशि बहुत ज्यादा हो गयी थी और वह मुकदमे  के डर से नींदविहीन रातें और चैनविहीन दिन बिता रहा था। 
अतः "मैंने सोचा" भी "बस एक बार" की तरह समय बर्बाद करने वाला, आधारहीन और बकवास भरा वाक्यांश है। अपना भविष्य उज्जवल बनाने के लिए सपने में भी इससे दूर भागें।

  

Sunday, September 7, 2014

तिसरा विध्वंशकरी वाक्यांश "चलता है"

 पहले हम दो  विध्वंशकारी  वाक्यांशों "बस एक बार" और "मैंने सोचा" के बारे में बता चुके हैं। आज हम तीसरे  विध्वंशकारी  वाक्यांश "चलता है" के बारे में विमर्श करेंगे। यह वाक्यांश पहले दोनों वाक्यांशों से भी ज्यादा हानिकारक है।
उपहार सिनेमा हादसा भारत की भीषणतम अग्नि दुर्घटनाओं में से एक था। चेतावनी दिए जाने के बावजूद भी सिनेमा हॉल के मालिकों ने सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम नहीं किये । शायद उन्होंने सोचा होगा,"जैसा भी इंतजाम है, चलता है ". 
इस "चलता है" सोच के भयानक परिणाम हुए, भारत के अब तक के सबसे भयावह अग्नि-दुर्घटना में दम घुटने से  59 लोग असमय काल के गाल में समा गए और 103 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।   बाद में न्यायलय ने अंसल-बंधुओं समेत 12 लोगों को लापरवाही आदि  के अपराध का दोषी पाया और उन्हें कारावास तथा आर्थिक दंड की सजा सुनाई।  
एक बैंक में विश्वास (बदला हुआ  नाम)  नामक एक युवक काम करता था। वह बड़े ही मृदुल स्वभाव का आग्यांकारी स्टाफ था। बैंक अधिकारीयों का उस पर अटूट विश्वास था। 
बैंक में वह काफी दुर्भाग्यपूर्ण दिन था , जब बैंक के निरीक्षक ने लाखों रुपयों का घोटाला पकड़ा। यह घोटाला विश्वास ने कर दिया था।  सुंननेवालों को अपने कानों पर  विश्वास नहीं हुआ। विश्वास ने रोते -रोते बताया कि एक बार उसे कुछ सौ रुपयों की जरुरत थी। उसने खाते में गरबर करके रूपये निकाल लिए और बाद में जमा कर दिया। इस ओर किसी का ध्यान नहीं गया। अतः उसने सोचा कि उसका तरीका चल गया। अतः जब उसे दुबारा कुछ ज्यादा रुपयों की जरुरत हुई तो उसने यही तरीका अपनाया और सोचा,"चलता है। " धीरे-धीरे उसकी जरूरतें बढ़ती गयीं और उसने काफी बड़े रकम का घोटाला कर दिया। अब उसके पास उतनी रकम नहीं थी कि वह खातों में डालकर गरबरी ठीक कर पाता। शाखा में निरीक्षण के दौरान गरबरी रह गयी और विश्वास पकड़ा गया। कल तक  जो चल रहा था, वह नहीं चल पाया और बेचारे की नौकरी चली गयी।
 2 G घोटाला करने वाले सोच रहे होंगे कि सब चलता है, अंततः वह घोटाला पकड़ा गया, अनेक लोग जांच के घेरे में है। अनेक लोगों को ज़मानत नहीं मिलने के कारण महीनों जेल में बितानी पड़ी।  यद्यपि कौन दोषी है और कौन निर्दोष ? इसका फैसला होना बाकी है। 
अतः आज जो चलता है, कल बड़े मुसीबत की जड़ बन सकता है। समय रहते इस वाक्यांश से तोबा कर लें। भले ही प्रारम्भ में आपको थोड़ा कष्ट होगा, लेकिन अंततः  आपका जीवन ज्यादा  सुखद और शांतिपूर्ण होगा।


  

Monday, September 1, 2014

WHAT ARE YOUR SIGNBOARDS?

Do you know," Every person carries many visible sign boards with him." That is why we call someone intelligent; we call someone trustworthy; we call someone cunning; and so on.
 I too carried a big signboard which said," I forget no favour and forgive no disfavour." This sign was inspired by a character in Sidney Sheldon's famous novel,"The Other Side of Midnight ." I had made it intentionally after giving due thought. However, later on, I felt that forgiving no disfavour is behaving just like a snake.
 It is said that the snake bites even that person who feeds milk to it when it gets a little displeasure. So there is one popular idiom in our area, “You may feed tonnes of milk to a snake, but even then it will never be trustworthy."
Therefore, I decided to change my signboard. Now it reads," I forget no favour; I condone some disfavour, but don't take me for granted." The signboard is again well thought. When I reciprocate the favours given, I assure my friends and public a positive reciprocal gesture for every favour they bestow upon me. Thus I encourage others to give me favours. I condone unintentional disfavours and counsel such persons. But after all, being Senior Manager, I have certain administrative functions to discharge, so I need to instil some sense of fear also. So sometimes I warn and sometimes I retaliate selectively if it becomes necessary. However, I try to be as discreet as a surgeon who operates and takes out only bad parts of the body.
Have you ever analysed what signboards you carry with you? Have you made your signboards after giving a proper thought? Do you change or modify your signboards when it is need of the hour?
Please take a pen and a piece of paper and start writing your answer to the above questions. Investing a little time, in this exercise, may reap tremendous benefits.

Sunday, August 17, 2014

MASTER YOUR DESIRES.

It is easy to suppress the first desire than to fulfill all those follow it.
Benjamin Franklin.
Whether we are masters of our desires or their servants?


Many psychologists bemoan, “None, but we are our biggest enemies. We harm ourselves much more than our worst enemies.” 
 Even some persons may become LIVING ghosts.
 What is a Ghost? 
It is a soul sans body. He can't enjoy tasty yummy foods. He can't enjoy beautiful symphonies of music. He can't enjoy the breathtaking, magnificent scenery since he has no tongue, ears, or eyes.
 In short, a ghost can’t enjoy any luxury of life, but he has infinite desires, and he hankers here and there after fulfillment of those everlasting desires. 

 Once a friend of mine grumbled that he was seriously ill; his sugar level was abnormally high despite a massive dose of insulin and other drugs. Recently I saw him devouring yummy sweets in a feast. I smiled at him; he blushed but kept enjoying the delicious sweet poisons.


A black sheep had extra-marital affairs on the verge of retirement; apparently, his mischief required more money than his earnings. He committed a fraud and killed himself after detection of the same. Unfortunately, his uncontrolled desires first made him a living ghost. Then, alas, he became a real ghost.

 Our forefathers rightly devised four stages of life in our Hindu Religion. The Brahmacharya(student life), Grihastha(household life), Vanaprastha(48-72) and Sanyasa(72 onwards). 
During Brahmacharya(student life), one practiced controlling illicit and unreasonable desires. During Grihastha(household life), one fulfilled reasonable desires and discarded unreasonable ones. When one reached the age of Vanaprastha, one gradually started to withdraw from the world by forsaking all the desires voluntarily.
 The choice is ours. Whether we, voluntarily, opt for mastering our desires to lead a peaceful life or we hanker after infinite unfulfilled desires to lead a miserable life like a living ghost?

Friday, August 15, 2014

'बस एक बार' एक विध्वंशकरी वाक्यांश

 'बस एक  बार', संभवतः इस संसार का सबसे ज्यादा नकारात्मक और विनाशकारी वाक्यांश  है।
कोई कहता है कि  'बस एक  बार', मैं पांच मिनट और सो लेता हूँ, उसके बाद पांच किलोमीटर तेजी से टहलूंगा। कोई कहता है कि  'बस एक  बार', मैं जी भर के शराब पी लेता हूँ, उसके बाद अगले सात जन्म तक सपने में भी इसे  नहीं  छुऊँगा। कोई कहता है कि  'बस एक  बार', पान या गुटखे का मजा ले लेता हूँ, फिर कभी इनके आस -पास भी नहीं फटकूंगा। 
लेकिन , अफ़सोस , बाद  में  उन्हें  महसूस  होता  है  कि  'बस एक  बार', वाक्यांश  ने  न  केवल  उनके  स्वास्थ्य  पर , बल्कि उनकी  महत्वकांछाओं  पर  भी  पानी  फेर  दिया  है , क्योंकि  'बस एक  बार' का सिलसिला  अनवरत  चलता  चला  जाता  है। 

 कैसे  हम  इस  नकारात्मक और विनाशकारी वाक्यांश  से  छुटकारा  पा  सकते  हैं ?
यदि  कोई  बुरी  आदत  त्यागने  लायक  है  तो  इसे  झट-पट  त्याग  दें।  यदि  गुटखा  खाना  खतरनाक  है  तो  फिर क्यों  'बस एक  बार' एक  गुटखा  खाने  के  बारे  में  सोचें, क्यों  न  इसे  अविलम्ब अलविदा  कह  दें ?
यदि  कोई  काम  करने  लायक  है  तो  उसे  १० सेकंड  के  लिए  भी  क्यों  टाले , क्यों  न  उसे  अभी  तुरत  करना  प्रारम्भ  कर  दें ?
अतः आज  ही  टाल -मटोल  के  शहंशाह  'बस एक  बार', को  हमेशा  के  लिए  अलविदा  कह दें  और  गतिशीलता  के  सम्राट  'अविलम्ब ' को  सदा  के  लिए  गले  लगा  लें।  अपने सपने सच करना और जीवन  के  उद्देश्यों को पाना  आपके  लिए आसान हो जायेगा। 

Tuesday, August 5, 2014

RAISE YOUR VOICE FOR GOOD CAUSES.

“Never be afraid to raise your voice for honesty and truth and compassion against injustice and lying and greed. If people all over the world...would do this, it would change the earth.”- William Faulkner.
"The person who bears oppressions silently more guilty than oppressors."- Bal Gangadhar Tilak.
Raise your voices for good causes. Ignore neither excesses nor filth. Take the broom to clean as per your might. Let's work together to make this world a better place to live.
जिन खोजा तिन पाइंया गहरे पानी पैठ,
मैं बौरी डूबन डरी, रही किनारे बैठ,(Those who dared, got by exploring deep waters. I, the coward, feared to drown and kept sitting on the shore) 

सपने में भी अपना पासवर्ड नहीं बताएं।

ठगों से सतर्क रहें। 


एक छरहरी स्मार्ट युवती मेरी  शाखा में एक  दिन  आयी। उसने बताया ," एक  व्यक्ति  ने  रोबदार  आवाज  में  उसे फ़ोन पर धमकी दी कि उसका डेबिट कार्ड फ्रीज किया जा रहा है। "महिला ने कारण पूछा तो उसने बताया कि महिला के पति के खाते का वेरिफिकेशन पेंडिंग है, अतः खाता फ्रीज किया जा रहा है। फ़ोन करने वाले उचक्के ने अपने आप को  बैंक -अधिकारी  बताया  और  महिला को सुझाव दिया कि वह अपने डेबिट कार्ड (एटीएम) का नंबर और पासवर्ड नोट कराकर सत्यापन करा ले। महिला को दाल में कुछ काला लगा इसलिए उसने ठग को अपने पति का मोबाइल नंबर दे दिया। 
महिला का फ़ौजी पति रेलगाड़ी में यात्रा कर रहा था, उसी समय उचक्के ने उसे फ़ोन करके एटीएम का नंबर और पासवर्ड माँगा। पहले तो महिला का पति झिझका, लेकिन जब धोखेबाज ने खाता फ्रीज करने की धमकी दी तो उसने एटीएम नंबर और पासवर्ड बता दिया। ठग ने मिनटों के अंदर ऑनलाइन खरीददारी करके सीधे-साधे फ़ौजी के खाते से लगभग सारा रुपया निकाल लिया।
मोबाइल पर सन्देश आने के बाद उनलोगों ने अपना एटीएम ब्लॉक करा लिया। अब महिला की परेशानी यह थी कि वह अपने पति के खाता से वेतन की राशि कैसे निकाले क्योंकि खाता पति के नाम से था और पति जम्मू-कश्मीर में पोस्टेड थे। इस तरह ठग ने पैसे भी निकाल लिए और दम्पति के परिवार को घोर परेशानी में भी डाल दिया।

कृपया यह  ध्यान रखें, "आपका  बैंक आपका पासवर्ड या आपके एटीएम/

डेबिट कार्ड/क्रेडिट कार्ड से सम्बंधित कोई भी जानकारी नहीं मांगता है." अतः

 सपने में भी ऐसी कोई जानकारी किसी जालसाज को नहीं दें। 














Saturday, August 2, 2014

BE FLEXIBLE


 BE FLEXIBLE LIKE YOUR TONGUE, HARD TEETH ARE EXTRACTED ONE BY ONE; THE FLEXIBLE TONGUE LASTS WHOLE LIFE.

 BE FLEXIBLE LIKE AIR FILLED TYRES; THEY ABSORB SHOCKS QUICKLY AND GO FAR AWAY.
 BE FLEXIBLE LIKE AKBAR THE GREAT, WHOSE POLICY OF TOLERANCE MADE HIS NAME IMMORTAL.
 BE FLEXIBLE LIKE LORD SHRI KRISHNA AND HELP TRUTH PREVAIL.
 BE FLEXIBLE LIKE AN ALIVE BODY, DEAD TISSUES BECOME BRITTLE.

Tuesday, July 29, 2014

SAFE DRIVING TIPS

SAFETY FIRST SPEED AFTERWARDS. BETTER LATE THAN NEVER.

DRIVE CAREFULLY FOR THE SHAKE OF YOURS' CHILDREN.

DRIVE CAREFULLY FOR THE SHAKE OF OTHERS CHILDREN.

LIQUOR AND DRIVING MAKES A LETHAL COCKTAIL.

AVOID DRIVING WHEN YOU ARE TIRED, SICK OR FATIGUED.

SLOW DOWN SPEED, IF SOMETHING ON THE ROAD, IS BOTHERING YOU.

USE HORNS WHILE STARTING, TO WARN PEDESTRIANS AT CROWDED PLACES.

DRIVE SLOWLY, WHEN ROAD IS WET.

DRIVE SLOWLY, WHEN BRAKES ARE WET.

USE BOTH BRAKES SIMULTANEOUSLY WHILE DRIVING A BIKE.

SLOW DOWN SPEED AND USE HORNS WHEN ONE VEHICLE IS OVERTAKING ANOTHER FROM THE FRONT ON THE NARROW ROAD.

DRIVE SAFELY, YOUR FAMILY MEMBERS ARE WAITING AT HOME.

REPEAT THESE TIPS TIME AND AGAIN, TO ENABLE YOU TO APPLY THEM IN TIME OF NEED.