Pages

About Me

My photo

I STRIVE TO MAKE THE WORLD A BETTER PLACE TO LIVE.

Sunday, August 17, 2014

MASTER YOUR DESIRES.

It is easy to suppress the first desire than to fulfill all those follow it.
Benjamin Franklin.
Whether we are masters of our desires or their servants?


Many psychologists bemoan, “None, but we are our biggest enemies. We harm ourselves much more than our worst enemies.” 
 Even some persons may become LIVING ghosts.
 What is a Ghost? 
It is a soul sans body. He can't enjoy tasty yummy foods. He can't enjoy beautiful symphonies of music. He can't enjoy the breathtaking, magnificent scenery since he has no tongue, ears, or eyes.
 In short, a ghost can’t enjoy any luxury of life, but he has infinite desires, and he hankers here and there after fulfillment of those everlasting desires. 

 Once a friend of mine grumbled that he was seriously ill; his sugar level was abnormally high despite a massive dose of insulin and other drugs. Recently I saw him devouring yummy sweets in a feast. I smiled at him; he blushed but kept enjoying the delicious sweet poisons.


A black sheep had extra-marital affairs on the verge of retirement; apparently, his mischief required more money than his earnings. He committed a fraud and killed himself after detection of the same. Unfortunately, his uncontrolled desires first made him a living ghost. Then, alas, he became a real ghost.

 Our forefathers rightly devised four stages of life in our Hindu Religion. The Brahmacharya(student life), Grihastha(household life), Vanaprastha(48-72) and Sanyasa(72 onwards). 
During Brahmacharya(student life), one practiced controlling illicit and unreasonable desires. During Grihastha(household life), one fulfilled reasonable desires and discarded unreasonable ones. When one reached the age of Vanaprastha, one gradually started to withdraw from the world by forsaking all the desires voluntarily.
 The choice is ours. Whether we, voluntarily, opt for mastering our desires to lead a peaceful life or we hanker after infinite unfulfilled desires to lead a miserable life like a living ghost?

Friday, August 15, 2014

'बस एक बार' एक विध्वंशकरी वाक्यांश

 'बस एक  बार', संभवतः इस संसार का सबसे ज्यादा नकारात्मक और विनाशकारी वाक्यांश  है।
कोई कहता है कि  'बस एक  बार', मैं पांच मिनट और सो लेता हूँ, उसके बाद पांच किलोमीटर तेजी से टहलूंगा। कोई कहता है कि  'बस एक  बार', मैं जी भर के शराब पी लेता हूँ, उसके बाद अगले सात जन्म तक सपने में भी इसे  नहीं  छुऊँगा। कोई कहता है कि  'बस एक  बार', पान या गुटखे का मजा ले लेता हूँ, फिर कभी इनके आस -पास भी नहीं फटकूंगा। 
लेकिन , अफ़सोस , बाद  में  उन्हें  महसूस  होता  है  कि  'बस एक  बार', वाक्यांश  ने  न  केवल  उनके  स्वास्थ्य  पर , बल्कि उनकी  महत्वकांछाओं  पर  भी  पानी  फेर  दिया  है , क्योंकि  'बस एक  बार' का सिलसिला  अनवरत  चलता  चला  जाता  है। 

 कैसे  हम  इस  नकारात्मक और विनाशकारी वाक्यांश  से  छुटकारा  पा  सकते  हैं ?
यदि  कोई  बुरी  आदत  त्यागने  लायक  है  तो  इसे  झट-पट  त्याग  दें।  यदि  गुटखा  खाना  खतरनाक  है  तो  फिर क्यों  'बस एक  बार' एक  गुटखा  खाने  के  बारे  में  सोचें, क्यों  न  इसे  अविलम्ब अलविदा  कह  दें ?
यदि  कोई  काम  करने  लायक  है  तो  उसे  १० सेकंड  के  लिए  भी  क्यों  टाले , क्यों  न  उसे  अभी  तुरत  करना  प्रारम्भ  कर  दें ?
अतः आज  ही  टाल -मटोल  के  शहंशाह  'बस एक  बार', को  हमेशा  के  लिए  अलविदा  कह दें  और  गतिशीलता  के  सम्राट  'अविलम्ब ' को  सदा  के  लिए  गले  लगा  लें।  अपने सपने सच करना और जीवन  के  उद्देश्यों को पाना  आपके  लिए आसान हो जायेगा। 

Tuesday, August 5, 2014

RAISE YOUR VOICE FOR GOOD CAUSES.

“Never be afraid to raise your voice for honesty and truth and compassion against injustice and lying and greed. If people all over the world...would do this, it would change the earth.”- William Faulkner.
"Those who bear oppressions silently are as much guilty as oppressors."- Bal Gangadhar Tilak.
Raise your voices for good causes. Don't ignore excesses. Don't ignore filth. Take the broom and clean it as per your might. Let's work together to make this world a better place to live.
जिन खोजा तिन पाइंया गहरे पानी पैठ,
मैं बौरी डूबन डरी, रही किनारे बैठ,(Those who dared, got by exploring deep waters. I, the coward, feared to drown and kept sitting on the shore) 

सपने में भी अपना पासवर्ड नहीं बताएं।

ठगों से सतर्क रहें। 


एक छरहरी स्मार्ट युवती मेरी  शाखा में एक  दिन  आयी। उसने बताया ," एक  व्यक्ति  ने  रोबदार  आवाज  में  उसे फ़ोन पर धमकी दी कि उसका डेबिट कार्ड फ्रीज किया जा रहा है। "महिला ने कारण पूछा तो उसने बताया कि महिला के पति के खाते का वेरिफिकेशन पेंडिंग है, अतः खाता फ्रीज किया जा रहा है। फ़ोन करने वाले उचक्के ने अपने आप को  बैंक -अधिकारी  बताया  और  महिला को सुझाव दिया कि वह अपने डेबिट कार्ड (एटीएम) का नंबर और पासवर्ड नोट कराकर सत्यापन करा ले। महिला को दाल में कुछ काला लगा इसलिए उसने ठग को अपने पति का मोबाइल नंबर दे दिया। 
महिला का फ़ौजी पति रेलगाड़ी में यात्रा कर रहा था, उसी समय उचक्के ने उसे फ़ोन करके एटीएम का नंबर और पासवर्ड माँगा। पहले तो महिला का पति झिझका, लेकिन जब धोखेबाज ने खाता फ्रीज करने की धमकी दी तो उसने एटीएम नंबर और पासवर्ड बता दिया। ठग ने मिनटों के अंदर ऑनलाइन खरीददारी करके सीधे-साधे फ़ौजी के खाते से लगभग सारा रुपया निकाल लिया।
मोबाइल पर सन्देश आने के बाद उनलोगों ने अपना एटीएम ब्लॉक करा लिया। अब महिला की परेशानी यह थी कि वह अपने पति के खाता से वेतन की राशि कैसे निकाले क्योंकि खाता पति के नाम से था और पति जम्मू-कश्मीर में पोस्टेड थे। इस तरह ठग ने पैसे भी निकाल लिए और दम्पति के परिवार को घोर परेशानी में भी डाल दिया।

कृपया यह  ध्यान रखें, "आपका  बैंक आपका पासवर्ड या आपके एटीएम/

डेबिट कार्ड/क्रेडिट कार्ड से सम्बंधित कोई भी जानकारी नहीं मांगता है." अतः

 सपने में भी ऐसी कोई जानकारी किसी जालसाज को नहीं दें। 














Saturday, August 2, 2014

BE FLEXIBLE


 BE FLEXIBLE LIKE YOUR TONGUE, HARD TEETH ARE EXTRACTED ONE BY ONE; THE FLEXIBLE TONGUE LASTS WHOLE LIFE.

 BE FLEXIBLE LIKE AIR FILLED TYRES; THEY ABSORB SHOCKS QUICKLY AND GO FAR AWAY.

 BE FLEXIBLE LIKE AKBAR THE GREAT, WHOSE POLICY OF TOLERANCE MADE HIS NAME IMMORTAL.

 BE FLEXIBLE LIKE LORD SHRI KRISHNA AND HELP TRUTH PREVAIL.

 BE FLEXIBLE LIKE AN ALIVE BODY, DEAD TISSUES BECOME BRITTLE.